भाजपा का मोर आवास मोर अधिकार वाला आंदोलन घड़ियाली आंसू बहाने जैसा : राजेश शर्मा

भाजपा का मोर आवास मोर अधिकार वाला आंदोलन घड़ियाली आंसू बहाने जैसा : राजेश शर्मा

जिला कांग्रेस कमेटी,भिलाई के प्रवक्ता राजेश शर्मा ने भाजपा के मोर आवास मोर अधिकार वाले आंदोलन पर टिप्पणी करते हुए इसे नौटंकी करार दिया है।

श्री शर्मा ने कहा कि एक तरफ केंद्रीय वित्त मंत्री खुलेआम राज्यों के हिस्से की राशि रोकने की बात कह रही हैं और भाजपा के सभी सांसद कानों में रुई डाले बैठे हैं। राज्य सरकार को केंद्र से राज्य की जीएसटी क्षतिपूर्ति का पैसा 14 हजार करोड़ स्र्पये लेना है। कोयले की रायल्टी का अतिरिक्त लेबी का 4140 करोड़, सेंट्रल एक्साइज का 13 हजार करोड़, प्रधानमंत्री शहरी आवास का 1500 करोड़ की दो किश्त का तीन हजार करोड़ भी बकाया है। अगर यह मिले तो तो गरीबों के आवास बनाने में आसानी हो जाएगी, तेजी भी आएगी।

उन्होंने आगे कहा कि यह छत्तीसगढ़ के साथ घोर अन्याय है। यहां की जनता ने भाजपा को 11 में से 9 सांसद दिए लेकिन यह सांसद जनहित में भी चुप्पी साधे बैठे हैं या राजनीति कर रहे हैं, भाजपा सांसदों को अपनी उपलब्धि बताना चाहिए। वे जनता के बीच पूरी तरह फ्लॉप साबित हो रहे हैं।

केंद्र सरकार में छत्तीसगढ़ से एक केंद्रीय राज्य मंत्री रेणुका सिंह भी हैं। क्या वे बता सकती हैं कि पिछले 3 सालों में उन्होंने छत्तीसगढ़ को क्या दिया? यहां तक की राज्य की रुकी हुई राशि को भी वापस नहीं दिला पा रही है, ऐसे में मोर आवास मोर अधिकार मामले में भाजपा का आंदोलन यह दर्शाता है कि बीजेपी निचले दर्जे की राजनीति कर रही है और उसे वोटबैंक की राजनीति का सिर्फ सत्ता में आना है लेकिन जनता ने उन्हें अगले पांच साल के लिए वनवास देने का मन बना लिया है।