प्रबंधन कर्मचारियों के हितों को अनदेखा ना करें-बीएमएस

प्रबंधन कर्मचारियों के हितों को अनदेखा ना करें-बीएमएस

भिलाई इस्पात मजदूर संघ कार्यकारिणी की एक बैठक कल शनिवार यूनियन कार्यालय sector-5 में संपन्न हुई जिसमें भारी संख्या में कार्यकर्ताओं ने अपनी उपस्थिति दर्ज कराई।
इस अवसर पर कार्यकारी अध्यक्ष चन्ना केशवलू कार्यकर्ताओं को बताया की चुनाव जीतने के बाद संयंत्र कर्मचारियों को बीएमएस से बड़ी उम्मीदें हैं पर जिस रफ्तार से कार्य होना चाहिए वह नहीं हो पा रहा है कर्मचारियों की समस्याओं अधूरे वेतन समझौता 39 महीने का रुका हुआ एरियर्स ट्रांसफर कर्मियों की वापसी अच्छे क्वार्टर स्वच्छ वातावरण जैसे ज्वलंत मुद्दों को लेकर कई बार प्रबंधन से चर्चा की तथा पत्र के माध्यम से इन समस्याओं को सुलझाने के लिए आग्रह किया गया पर उम्मीद के मुताबिक परिणाम नहीं मिला जब स्थानीय प्रबंधन की ओर से उचित कार्रवाई नहीं की गई तब मजबूर होकर हमें राष्ट्रीय नेताओं के पास जाना पड़ा इसी कड़ी में केंद्रीय इस्पात मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया श्रम मंत्री भूपेंद्र यादव तथा हमारी भिलाई की राज्यसभा सांसद आदरणीया सरोज पांडे से दिल्ली में मुलाकात की और उन्हें कर्मचारीयों की मांगों के संदर्भ में एक ज्ञापन सौंपा साथ ही उन्हें अवगत कराया गया की जिस प्रकार से प्रबंधन का टालमटोल रवैया है उससे कर्मचारियों में भारी आक्रोश है जिसे भिलाई प्रबंधन समझना नहीं चाह रहा है दोनों मंत्रियों ने इस बात को संज्ञान में लिया और आश्वासन दिया की ठोस कदम उठाया जाएगा।


कल डायरेक्टर इंचार्ज से चर्चा हुई वह भी इस बात से सहमत हैं की संवाद होते रहना चाहिए यदि कोई कम्युनिकेशन गैप है तो उसे दूर किया जाएगा और मिलकर कर्मचारियों की समस्याओं को हल किया जाएगा। ठेका श्रमिकों के मेडिकल मैं आ रही परेशानी के विषय में डायरेक्टर इंचार्ज ने कहां कि बाहर से मेडिकल करवाकर देने पर भी उनका गेट पास बनाया जाएगा एवं स्थानीय ठेकेदारों को 80% ठेका कार्य दिया जाएगा।
महामंत्री रवि शंकर सिंह ने भी अपनी बातों को रखते हुए बताया कि इस्पात राज्य मंत्री माननीय फग्गन सिंह कुलस्ते के भिलाई आगमन पर बीएमएस की टीम उनसे मिली है तथा उन्हें एक ज्ञापन भी सौंपा उन्होंने वहां उपस्थित डायरेक्टर इंचार्ज, एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर को स्थानीय मुद्दे सुलझाने के लिए निर्देशित किया तथा केंद्रीय मुद्दों के लिए आश्वासन दिया है।


उन्होंने बताया कि बीएमएस के प्रयासों से ही आज गेट पर क्यूआर कोड नहीं लगाया जा सका है इसी प्रकार बीएमएस के प्रयासों से ही पहली बार सेल में सम्मानजनक बोनस मिल पाया है उन्होंने बताया कि निकट भविष्य में क्वार्टर एलॉटमेंट प्रक्रिया में भी बदलाव होने जा रहा है इससे कम ग्रेड के कर्मचारी भी लाभान्वित होंगे। 200 वर्ग फुट तक के आवास जिसकी लाइसेंस फीस 5 लाख थी उसे कम करके 2.5 लाख करवाया गया जिसके लिए पिछले 6 महीने से हम लोग प्रयासरत थे
हमारी यूनियन दुर्गापुर की तरह 650 स्क्वायर फीट तक के क्वार्टर को लाइसेंस पर और उसकी फीस भी 1.5 लाख तथा 4 लाख रखी जाए प्रयास कर रही है।
या है
उपस्थित कार्यकर्ताओं ने भी अपनी समस्याओं को रखते हुए बताया कि आज संयंत्र में जिस प्रकार ठेका पद्धति बढ़ रही है उसी अनुपात में दुर्घटनाएं भी बढ़ रही है इस पर रोक लगाने की आवश्यकता है और हर दुर्घटना के लिए ठेकेदार के साथ दोषी अधिकारियों के खिलाफ भी कार्रवाई होनी चाहिए क्योंकि ऑपरेटिंग अथॉरिटी अपनी जिम्मेदारियों से बच नहीं सकता।
कुछ कर्मचारियों का यह भी कहना है की नई प्रमोशन पॉलिसी इंसेंटिव पॉलिसी में बदलाव खंडहर क्वार्टर शायद तुम्हें बढ़ती दुर्घटनाएं कर्मचारियों को मिलने वाली सुविधाएं इन सब को छोड़कर आज प्रबंधन टाउनशिप से कब्जे हटाने की बात कर रहा है जबकि इसके लिए कौन जिम्मेदार है इस पर चर्चा की जानी चाहिए और उनके खिलाफ उचित कार्रवाई करना चाहिए आज भी ऐसे लोग बरसों से एक ही जगह बैठे हुए हैं उन्हें वहां से हटाया जाना चाहिए।
बीएमएस के ट्रस्टी आनंद पांडे ने इंटक के सेक्रेटरी तरुण सैमुअल तथा वर्किंग कमिटी मेंबर मनु शर्मा को बीएमएस की सदस्यता दिलवाई।
मीटिंग में अध्यक्ष आई पी मिश्रा कार्यकारी अध्यक्ष चन्ना केशवलू महामंत्री रवि शंकर सिंह देवेंद्र कौशिक हरिशंकर चतुर्वेदी राजेश चौहान वशिष्ठ वर्मा अशोक माहोर शारदा गुप्ता धर्मेंद्र धामू विनोद उपाध्याय प्रवीण मारडिकर प्रदीप पाल सोम भारती एबिशन वर्गीस उमेश मिश्रा महेंद्र सिंह राजेश पाण्डेय सुरेंद्र चौहान अनिल सिंह संजय प्रताप सिंह भूपेंद्र बंजारे आर डी पांडेय राकेश सिंह सुधीर गरेवाल राज नारायण सिंह मुन्ना हिरवानी रजत पप्पू केशव पटेल रजनीश सिंह राजेंद्र ठाकुर एनपी बारले संतोष सिंह अरविंद सिंह बेचन लाल वर्मा सुदीप सेन गुप्ता सहित बड़ी संख्या में प्रतिनिधि उपस्थित थे।