‘हमने दंगा नहीं किया’, दिल्ली पुलिस की FIR पर बोलीं साक्षी मलिक, आगे के प्लान को लेकर भी किया खुलासा

दिल्ली पुलिस ने रविवार को बृजभूषण सिंह के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे पहलवानों को हिरासत में लिया था. बाद में उनके खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया।

दिल्ली पुलिस ने भारतीय कुश्ती महासंघ के अध्यक्ष बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे पहलवानों के खिलाफ केस दर्ज किया है. बजरंग पुनिया, साक्षी मलिक और विनेश फोगाट व अन्य के खिलाफ दंगा भड़काने, सरकार कर्मचरियों से मारपीट और उन्हें चोट पहुंचाने जैसी गंभीर धाराओं में मामला दर्ज किया गया है. एफआईआर पर पहलवान साक्षी मलिक ने प्रतिक्रिया देते हुए आरोपों को गलत बताया है. उन्होंने फोटो और वीडियो सबूत होने का भी दावा किया।

साक्षी मलिक ने कहा, हमने दंगा नहीं किया है और न कोई बवाल किया है. हमारे पास फोटो, वीडियो सबूत हैं. उन्होंने विनेश फोगाट की फोटो को एडिट करने का आरोप लगाते हुए कहा आईटी सेल उन लोगों (पहलवानों) को बदनाम करने की कोशिश कर रहा है।

आगे का कोई प्लान नहीं- मलिक

आगे की योजना के बारे में मलिक ने कहा, अभी हम लोग मानसिक रूप से थके हुए हैं, अभी आगे का कोई प्लान नहीं है. साथ ही सोमवार (29 मई) को किसी भी तरह की प्रेस कॉन्फ्रेंस से भी इनकार किया. उन्होंने कहा कि कल जो हुआ बहुत खराब था. हमलोग शांतिपूर्वक मार्च करने वाले थे लेकिन हमें हिरासत में ले लिया गया और शाम को 6 बजे छोड़ा गया।

एफआईआर पर निशाना

इसके पहले साक्षी मलिक ने पहलवानों के खिलाफ एफआईआर को लेकर दिल्ली पुलिस पर निशाना साधा था. मलिक ने अपने ट्विटर पेज पर लिखा, “दिल्ली पुलिस को यौन शोषण करने वाले बृज भूषण के ख़िलाफ़ FIR दर्ज करने में 7 दिन लगते हैं और शांतिपूर्ण आंदोलन करने पर हमारे ख़िलाफ़ FIR दर्ज करने में 7 घंटे भी नहीं लगाए. क्या इस देश में तानाशाही शुरू हो गई है ? सारी दुनिया देख रही है कैसे सरकार अपने खिलाड़ियों के साथ कैसा बर्ताव कर रही है.” बता दें कि यही ट्वीट विनेश फोगाट ने भी किया था।

हिरासत में लिए गए थे पहलवान

बृजभूषण शरण सिंह के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे पहलवानों ने रविवार (28 मई) को संसद भवन के सामने महिला महापंचायत का ऐलान किया था. पुलिस से अनुमति न मिलने के बावजूद करीब साढ़े 11 बजे रेसलर्स ने ‘शांति मार्च’ करते हुए संसद भवन की तरफ कूच किया. संसद से कुछ दूर पहले केरल भवन के पास पुलिस ने पहलवानों को आगे बढ़ने से रोक दिया. यहां से कई पहलवानों को हिरासत में ले लिया गया, इनमें विनेश फोगाटस साक्षी मलिक और बजरंग पुनिया भी शामिल थे. शाम को पुलिस ने साक्षी मलिक और विनेश फोगाट को छोड़ दिया जबकि बजरंग पुनिया को देर रात मयूर विहार थाने से छोड़ा गया।