छत्तीसगढ़ के स्वास्थ्य कर्मचारी की कल से अनिश्चितकालीन हड़ताल की चेतावनी, मरीज होंगे परेशान

अपनी छ सूत्रीय मांगो को लेकर प्रदेश के स्वास्थ्य कर्मचारी अड़े हुए है। वे कल यानी मंगलवार से अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाने का विचार बना चुके है।

अगर ऐसा होता है तो राज्य भर के स्वास्थ्य सेवाओं पर इसका सीधा असर देखने को मिलेगा। हड़ताल में जाने वालों में डियोग्राफर, मेडिकल लैब टेक्नोलॉजी, नेत्र सहायक अधिकारी ओटी टेक्नीशियन,स्टॉफ नर्स,वार्ड बॉय ,आया बाई सभी शामिल है।

इस बारे में संघ के पदाधिकारियों का कहना है कि पिछले कई वर्षो से वे मुख्यमंत्री से लेकर स्वास्थ्य मंत्री और विभागीय अधिकारियों के पास अपनी मांगे लेकर पहुंच चुके हैं। लेकिन अब तक मांगे पूरी नहीं हुई है। बताया गया कि हर बार उन्हें शासन कि तरफ से मांगो की पूर्ती के लिए कोरा आश्वासन ही मिला लेकिन इस दिशा मे कोई ठोस पहल नहीं हो सकी। जिसके बाद उन्होंने इस मुद्दे पर अनिश्चितकालीन हड़ताल का फैसला किया है।

बात करें स्वास्थ्य कर्मियों की छः मांगो पर तो इनमें रेडिएशन भत्ता जो की 30 साल से 50 रुपए है जिसे मूल वेतन का 10% किया जाएँ, पदो की संख्या में वृद्धि हो, रेडिएशन अवकाश की स्वीकृति, पद नाम परिवर्तन, पदोन्नति क्रम 2800 से 4200 किया जाने और चार स्तरीय वेतनमान की मांग शामिल है। इसके अलावा अलग-अलग सेल की भी कई मांगे इनमे शामिल है। दूसरी तरफ अंबिकापुर में भी स्वास्थ्य कर्मचारियों ने सामूहिक छुट्टी के लिए आवेदन कर जिला प्रशासन की चिंता बढ़ा दी है। उन्होंने भी 4 जुलाई से अनिश्चितकालीन आंदोलन पर जाने की चेतावनी दी है। वे भी अपनी 24 सूत्रीय मांगों को लेकर आंदोलन पर जाने की तैयारी में जुटे हुए है।