देश की पहली मुस्लिम महिला! नजमा परवीन ने PM मोदी पर की PhD, जानें खास बात

वाराणसी: प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी की गिनती आज दुनिया के लोकप्रिय और सबसे ज्‍यादा सर्च किए जाने वाले लीडर्स में की जाती है। भारत हो या विदेशी मुल्‍क हर जगह पर आपको प्रधानमंत्री मोदी के प्रशंसक मिल जाएंगे, जिनके स्‍नेह का तरीका कुछ हट के होता है।
प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी के निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी में रहने वाली और राजनीति विज्ञान की शोधार्थी नजमा परवीन ने बीएचयू से उन पर पीएचडी पूरी कर ली है। नजमा परवीन संभवत: पीएम मोदी पर शोध करने वाली देश की पहली मुस्लिम महिला हैं। उनके शोध का शीर्षक नरेंद्र मोदी का राजनीतिक नेतृत्व: एक विश्लेषणात्मक अध्ययन है। नजमा के शोध में मोदी को राजनीति का मेगास्टार बताया गया है।

परवीन ने 2014 में नरेंद्र मोदी पर शोध के लिए अपना दाखिला बीएचयू में कराया था। परवीन ने आठ साल में अपना शोध पूरा किया है। बीएचयू के प्रोफेसर संजय श्रीवास्तव की देखरेख में उन्होंने अपना शोध पूरा किया उनकी थीसिस के बाहरी परीक्षक जामिया मिलिया इस्लामिया के राजनीति विज्ञान विभाग के प्रोफेसर महताब आलम रिज़वी थे। लल्लापुरा निवासी परवीन एक साधारण बुनकर परिवार से हैं। उसने कई साल पहले अपने माता-पिता को खो दिया था। सभी कठिनाइयों का सामना करते हुए उन्होंने अपनी शिक्षा जारी रखी। विशाल भारत संस्थान के संस्थापक प्रोफेसर राजीव श्रीवास्तव ने उनका समर्थन किया और उनकी पढ़ाई का सारा खर्च उठाया।

पीएचडी के लिए विषय के रूप में पीएम मोदी को क्‍यों चुना? इस बारे में बताते हुए परवीन कहती हैं- ‘मैंने इस विषय को इसलिए चुना क्योंकि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने गुजरात के मुख्यमंत्री के रूप में विकास का एक मॉडल बनाया। उनकी लोकप्रियता बढ़ी और मोदी 2014 में देश के प्रधान मंत्री बने। 2014 के आम चुनाव ने देश में पूरे राजनीतिक परिदृश्य को बदल दिया।’

परवीन ने कहा, ‘भाजपा की जबरदस्त जीत ने राष्ट्रीय राजनीति में क्षेत्रीय दलों के प्रभाव को काफी कम कर दिया। पीएम के रूप में, मोदी ने गतिशील तरीके से काम करना शुरू किया और देश के विकास और गरीबों के कल्याण के लिए कई फैसले लिए। इसीलिए मैंने इस विषय को चुना।’ उन्‍होंने कहा कि शुरुआत में कुछ लोगों ने उनके फैसले का विरोध किया, लेकिन वह अपने विचार पर कायम रहीं और मोदी पर शोध करती रहीं। परवीन ने कहा, वह मोदी की तरह राजनेता बनना चाहती हैं, उन्होंने पहले ही एक राजनीतिक पार्टी भारतीय अवाम पार्टी बना ली है, जिसकी वह अध्यक्ष हैं।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर शोध थीसिस पांच अध्यायों में विभाजित है। उन्होंने अपना शोध पूरा करने के लिए 20 हिंदी किताबों और 79 अंग्रेजी किताबों का हवाला दिया, जिनमें मोदी की जीवनियां भी शामिल थीं।
उन्होंने 37 अखबारों और पत्रिकाओं का भी जिक्र किया और नरेंद्र मोदी के भाई पंकज मोदी और आरएसएस नेता इंद्रेश कुमार से भी मुलाकात की। उन्होंने कहा कि तीन तलाक के खिलाफ आंदोलन, काशी की मुस्लिम महिलाओं द्वारा नरेंद्र मोदी को राखी भेजना और भारतीय आवाम पार्टी का मोदी को समर्थन को उनके शोध में प्रमुखता से शामिल किया गया है।

राजीव श्रीवास्तव, जिन्होंने परवीन को उनकी शिक्षा में समर्थन दिया, ने कहा, ‘2014 के आम चुनाव में इतिहास रचा गया जब एक गैर-राजनीतिक और साधारण परिवार से ताल्लुक रखने वाले नरेंद्र मोदी पीएम बने। इसलिए, परवीन ने एक बहुत ही प्रासंगिक विकल्प चुना शोध के लिए विषय। उनके शोध में पिछले नौ वर्षों के दौरान पीएम के रूप में मोदी द्वारा किए गए विभिन्न क्षेत्रों में कल्याणकारी योजनाएं, विकासात्मक कार्यक्रम और सुधार शामिल थे। परवीन तीन तलाक के खिलाफ आंदोलन में सक्रिय रही हैं। जब मोदी सरकार ने तीन तलाक के खिलाफ कानून बनाया तो वह पीएम मोदी को धन्यवाद संदेश भेजने वाली मुस्लिम महिलाओं में से एक थीं।