छत्तीसगढ़: कब्र से शव निकाल कर की गई डीएनए टेस्ट, फिर परिजनों को सौंपा गया पार्थिव शरीर

बीते दिनों ऑटो चालक ने सवारी की हत्या कर दी थी। मृतक का शव कल कब्र से निकाला गया। और डीएनए टेस्ट कर परिजनों को शव सौंप दी गई है। इस मामले में पुलिस ने बताया कि ऑटो चालक ने यात्री की हत्या कर खुद की हत्या की साजिश रची थी।

आरोपी ऑटो चालक ने पुलिस पूछताछ में बताया कि मृतक सवारी का नाम चुरामन साव था। वह झारखण्ड से बिलासपुर पंहुचा था। 25 दिसंबर की रात 7 बजे कोरबा जाने की तैयारी में था, लेकिन बस और ट्रेन नहीं होने के कारण शंकर शास्त्री के ऑटो को 1200 रुपये किराया लेकर कोरबा जा रहा था।

बिलासपुर से निकलने में बाद ऑटो कई बार रुक-रुक कर चल रही थी। इसके कारण सवारी चुरामन साव बड़बड़ाते हुए गाली दे रहा था। बार-बार गाली सुनकर ऑटो चालक में आ गया। सवारी चुरामन को मारने के लिए पहले ऑटो को पलटी कर दी। फिर उसके सिर में पत्थर पटक कर हत्या कर दी। लाश की पहचान छिपाने सिर को पत्थर से कुचल भी दिया था।

इस मामले के खुलासा होने के बाद आरोपी ने खुद को ऑटो चालक शंकर शास्त्री होना बताया और मृतक को चुरामन साव होना बताया। एसपी ने बताया कि आरोपी ने मामूली विवाद और गुस्से के कारण हत्या की वारदात को अंजाम दिया था। पुलिस ने झारखण्ड के चुरामन साव के परिजनों को शव सौंप दी गई है।