भिलाई स्टील प्लांट में सुबह-सुबह फिर हादसा,मचा हड़कंप

स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड-सेल के भिलाई स्टील प्लांट में फिर हादसा हो गया है। सुरक्षा जागरुकता सप्ताह मनाया जा रहा है। इसी बीच हर दिन हादसे की खबर भी आ रही है।
चार दिन पूर्व यूनिवर्सल रेल मिल-यूआरएम हादसे में मजदूर की जान चली गई। अब बार एंड रॉड मिल-बीआरएम से बड़ी खबर आ रही है। यहां क्रेन नंबर 113, शिफ्ट रूम को ठोकर मारते हुए आगे बढ़ गई। रूम में बैठे लोग बाल-बाल बच गए।

सुबह के वक्त यह घटना से कई लोगों की जान बच गई। अन्यथा नीचे से गुजरने वाले कार्मिक भी चपेट में आ जाते। फिलहाल, कार्मिक सुरक्षित हैं। इस तरह की घटना से कार्मिकों में शहदत फैल गई है। शिफ्ट रूम में बैठे कार्मिकों ने वरिष्ठ अधिकारियों को आपबीती सुनाई है।

क्रेन को ठेका मजदूर ऑपरेट कर रहा था। बीएसपी में ठेका मजदूरों से क्रेन ऑपरेट कराने को लेकर अक्सर सवाल उठाए जाते हैं। बावजूद, इसको नियंत्रित नहीं किया जा सका है। असुरक्षित तरीके से कार्य कराया जा रहा है। पूर्व में भी इसी तरह की घटना यहां हो चुकी है।

बताया जा रहा है कि मैकेनिकल शिफ्ट रूम में कर्मचारी बैठे हुए थे। अचानक से क्रेन के मैग्नेट ने बिल्डिंग को ठोकर मार दी। पल भर के लिए लगा, भूकंप आया है।

कुछ समय पाते, तब तक खिड़की का शीशा टूटकर नजरों के सामने बाहर गिर चुका था। ऊपर मंजिल पर लगा कूलर ठोकर की वजह से टूटते हुए अंदर घुस गया। कूलर लोहे के फ्रेम में होने की वजह से नीचे नहीं गिरा।

सरिया का बंडल उठाने के लिए क्रेन का इस्तेमाल किया जाता है। सरिया का बंडल उठाने के लिए क्रेन में मैग्नेट लगा हुआ है। यही मैग्नेट का हिस्सा बिल्डिंग से टकराया। आखिरकार यह हुआ कैसे, यह अब तक स्पष्ट नहीं हुआ है।