माता पिता और घर के बुजुर्गों को मानों भगवान स्वरूप – अनिकेत कृष्ण जी महाराज

माता पिता और घर के बुजुर्गों को मानों भगवान स्वरूप – अनिकेत कृष्ण जी महाराज

भिलाई के शुद्दीकरण हेतु सांसद विजय बघेल के नेतृत्व में 16 से 22 फरवरी तक भिलाई में सम्पूर्ण सनातनियों को सुविचारित व संस्कारित करने भिलाई में मनोकामना पूर्ति 108 कुंडीय हनुमत महायग व कथा का दिव्य आयोजन हो रहा है l
कथा व्यास श्री ब्रिज बिहारी अनिकेत कृष्ण जी महाराज अपनी कथा के माध्यम से श्रोताओं को बताते है कि हर घर मे एक न एक बुजुर्ग होना चाहिये असल मे जिस घर मे बुजुर्ग होते है उस घर में कष्ट का वास ज्यादा दिनों तक नहीं होता क्योंकि घर के बुजुर्गों के पास जीवन का जो अनुभव होता है उसी अनुभव से बड़े बड़े कष्ट का निवारण हो जाता है l

उदाहरण स्वरूप ब्रिज बिहारी अनिकेत कृष्ण जी महाराज रामायण की बात बताते है कि जब पता चलता है कि सीता जी को ढूंढने समुद्र पार कर लंका जाना है तो सब चिंतित हो जाते है कि कौन समुन्द को पार कौन करेगा तब वहां सबसे बुजुर्ग और अनुभवी थे ” जामवंत ” जिन्होंने केसरी नंदन हनुमान जी को उनकी शक्ति के बारे में बताया तब उन्होंने एक छलांग लगाई और पहुँच गये लंका तब पता चला कि सीता जी लंका में है l

इसी बात को सिद्ध करने ब्रिज बिहारी महाराज एक और कहानी बताते है पहले लड़की से शादी स्वयंवर के माध्यम से होती थी जिसमे लड़की पक्ष से एक बात आती है कि हमारे क्षेत्र की नदी को जो दुध से भर देगा हमारी बेटी उसी से व्याह करेगी l इस शर्त को सुनकर सभी परेशान हो जाते है कि इतना दुध कहा से लाये की नदी दुध से भर जाये l सभी युवाओं ने बल और बुद्धि का उपयोग कर लिया पर निवारण नही हुआ तब घर के एक बुजुर्ग बताते है जाओ उनसे बोलो हमने नदी को भरने के लिये दुध का जुगाड़ हो गया पहले नदी से सम्पूर्ण जल निकाल कर खाली कर दो l फिर क्या था इस उपाय को सुनकर लड़के की शादी हो गयी इसलिए कहते है घर मे माता पिता व बुजुर्गों के पास सभी प्रकार के कष्ट का निवारण होता है परंतु आज के युग मे माता पिता और घर के बुजुर्गो को छोड़कर न जाने कहा कहा सुख शांति और समृद्धि की तलाश में घूमते है जो संभव ही नही हैं l
भिलाई वासियों को आज तक एक आयोजन में एक साथ संकट मोचन 108 कुंडीय महायज्ञ , श्री रामकथा महाआरती और दिव्य दरबार को देखने का अवसर प्राप्त नही हुआ था अतः सभी रामभक्त दुर्ग सांसद विजय बघेल को धन्यवाद ज्ञापित कर रहे हैं l