दुर्ग संभाग: 35 की उम्र में ढाई-ढाई फीट के दूल्हा-दुल्हन की बनी जोड़ी,महिलाओं ने लड़की को गोद में लेकर की रस्में

दरअसल बालोद जिले के गुण्डरदेही ब्लॉक के ग्राम सिरसिदा के देवांगन परिवार में चारों ओर खुशियां छाई हुई हैं। यहां एक वामन दुल्हन यानी कम ऊंचाई वाली युवती रामेश्वरी को अपना वामन दूल्हा मनीष के रूप में आखिर मिल ही गया।

शादी का सीजन है और हर शादी यादगार लम्हों के साथ दो परिवारों को जोड़ती है, पर एक शादी ऐसी भी हुई है बालोद जिले में जिसकी चर्चा पूरे जिले में बनी हुई है। दरअसल यह शादी अपने आप में अनोखा विवाह है इसे देखकर यह कहा जा सकता है कि रब ने बना दी जोड़ी। पूरा समाज इस विवाह को एक आदर्श के रूप में देख रहा है यहां पर दोनों की लंबाई बेहद कम यानी 2.5 फीट है, विवाह के लिए रिश्ता नहीं मिल रहा था ऐसे ये दोनों परिवार एक दूसरे के लिए सहारा बने।

दरअसल बालोद जिले के गुण्डरदेही ब्लॉक के ग्राम सिरसिदा के देवांगन परिवार में चारों ओर खुशियां छाई हुई हैं। यहां एक वामन दुल्हन यानी कम ऊंचाई वाली युवती रामेश्वरी को अपना वामन दूल्हा मनीष के रूप में आखिर मिल ही गया। कुछ दिनों पहले गांव में विधि-विधान से मंत्र उच्चारण के साथ दुल्हन रामेश्वरी देवांगन ने अपने दूल्हे मनीष कुमार के साथ सात फेरे लिए। दुल्हन रामेश्वरी के भाई खिलेंद्र देवांगन ने बताया कि उनके परिवार में दो भाई एक बहन हैं. रामेश्वरी सबसे बड़ी बहन है वह सिलाई का काम करती है जिनके साथ रिश्ता तय हुआ यानी उनके जीजा भरदा (टटेंगा) के रहने वाले मनीष कुमार एक प्राइवेट कंपनी में कंप्यूटर ऑपरेटर हैं।

आपको बता दें कि अपनी दिव्यांगता को नजरंदाज कर दोनों ने मिलकर नए जीवन की शुरुआत करने का संकल्प लिया। बता दें, दोनों की उम्र 35 वर्ष है उनकी लंबाई करीब ढाई फीट है इस शादी के बाद दोनों परिवार फूले नहीं समा रहे। इस दिन का वे सालों से इंतजार कर रहे थे चूंकि, उनका ईश्वरीय आकार सामाजिक मापदंडों के अनरूप नहीं था, इसलिए शादी में दिक्कत आ रही थी लेकिन अब सब बेहतर हो चुका है।