कवर्धा नगर पालिका में हंगामा: कांग्रेस के पास बहुमत फिर भी भाजपा पार्षद बने कार्यवाहक अध्यक्ष,सामने आई बड़ी वजह…

कांग्रेस पार्षदों का दावा है कि उनके पास पूर्ण बहूमत है, इसके बाद भी भाजपा के पार्षद को अध्यक्ष बनाया जाना गलत है। इसी से नाराज कांग्रेस पार्षदों ने सीएमओ को जूते चप्पल की माला भेंट करने पहुंचे हुए थे।

कबीरधाम जिले के कवर्धा नगर पालिका कार्यालय में बुधवार को बवाल हो गया। कांग्रेस पार्षदों ने नए अध्यक्ष की नियुक्ति व उनके बिना अनुमति के पीआईसी कमेटी में शामिल किए जाने को लेकर विरोध प्रदर्शन किया। यहां कांग्रेस पार्षद और अध्यक्ष रहे ऋर्षि शर्मा ने दिसंबर माह में अपना इस्तीफा दिया था। इसके बाद अध्यक्ष का पद रिक्त था। एक दिन पहले मंगलवार को राज्य सरकार ने भाजपा पार्षद मनहरण कौशिक को कार्यवाहक अध्यक्ष नियुक्त किया है। मंगलवार को उन्होंने पद की शपथ लिया है। नगर पालिका में कुल 27 वार्ड है, जिसमें 19 में कांग्रेस व 6 में भाजपा व एक में निर्दलीय पार्षद है।

कांग्रेस पार्षदों का दावा है कि उनके पास पूर्ण बहूमत है, इसके बाद भी भाजपा के पार्षद को अध्यक्ष बनाया जाना गलत है। इसी से नाराज कांग्रेस पार्षदों ने सीएमओ को जूते चप्पल की माला भेंट करने पहुंचे हुए थे। इससे पहले पुलिस ने कांग्रेस कार्यकर्ता और पार्षद को कार्यालय के बाहर रोक लिया। इस दौरान जमकर नारेबाजी हुई।

पार्षद अरूणधति चन्द्रवंशी, महिमा गुप्ता, संतोष यादव, उत्तम गोप, जानकी जायसवाल, सुष्मा सिन्हा, सुशीला धुर्वे ने बताया कि सभी कांग्रेस पार्टी के कार्यकर्ता व पार्षद हैं। आज बुधवार की सुबह 10 बजे हमे नगर पालिका से जारी पत्र में सलाहकार समिति के सदस्य बनाए जाने की जानकारी प्राप्त हुई। हम सभी कांग्रेस पार्टी से जुड़े हैं। सीएमओ द्वारा जबरदस्ती बिना अनुमति व सहमति के हमे पीआईसी सलाहकार सदस्य बनाकर बदनाम करने का प्रयास किया गया।

कांग्रेस पार्षदों ने आगे कहा कि हम सभी पीआईसी का सलाहकार सदस्य नहीं बनना चाहते। कांग्रेस पार्षद मोहित माहेश्वरी ने बताया कि नए कार्यवाहक अध्यक्ष की नियुक्ति गलत है। पहले दिन से ही विरोध कर रहे हैं।