शिमला नहीं छत्तीसगढ़ है जनाब : प्रदेश के कई जिलों में झमाझम बारिश, बिछी बर्फ की चादर, फसलों को भारी नुकसान

छत्तीसगढ़ के कई जिलों में झमाझम बारिश से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। कई जगहों पर बर्फ की चादर बिछी है। बेमौसम बारिश से फसलों को भारी नुकसान पहुंचा है।

छत्तीसगढ़ में मौसम के उलटफेर का दौर जारी है। 18 मार्च यानी आज और कल 19 मार्च के लिए ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। अगले तीन दिनों तक प्रदेश के कई जिलों में बारिश और ओले गिरने की की आशंका है।

इसी कड़ी में कोरबा में सोमवार देर शाम अचानक बदलाव आया। घने बादल छाने के साथ तेज बारिश शुरू हो गई। लगभग आधे घंटे तक अलग-अलग क्षेत्रों में बारिश के साथ जमकर ओले भी गिरे। कोरबी पसान क्षेत्र में बारिश के साथ बर्फ गिरने सड़क, आंगन, खेत मे बर्फ की चादर सी बिछ गई। बारिश के साथ ओले गिरने से फसलों को खासा नुकसान पहुंचने की आशंका है। कोरबी-चोटिया क्षेत्र में तेज आंधी, तूफान के मध्य बारिश और ओले गिरने से जनजीवन अस्त-व्यस्त हुआ है। गेहूं, आम, चार, एवं मौसमी हरी सब्जियां नष्ट हुई हैं।

गौरेला पेण्ड्रा मरवाही में भी झमाझम बारिश

गौरेला पेण्ड्रा मरवाही में दूसरे दिन भी मौसम ने करवट ली है जिसके बाद गरज चमक के साथ तेज बारिश और ओलावृष्टि के चलते तापमान में गिरावट दर्ज की गई है तो किसानों की खड़ी फसलों को काफी नुकसान हुआ है। वहीं अचानक आई बारिश के चलते कई इलाकों में बिजली सप्लाई भी बाधित हुई है। अचानक आई बारिश से सामान्य से दो से तीन डिग्री तक तापमान में भी गिरावट देखने को मिली है।

पेण्ड्रा मरवाही इलाके में अचानक मौसम ने दूसरे दिन भी करवट ली है। अचानक दोपहर बाद मौसम बदला और गरज चमक के साथ तेज बारिश और ओलावृष्टि हुई है। मरवाही के गगनई, साल्हे कोटा, मड़वाही, धनपुर मझगवां सहित आसपास के काफी गांवों में ओलावृष्टि की खबर है वहीं अचानक आए मौसम में बदलाव के चलते तापमान में गिरावट भी दर्ज की गई है।