दुर्ग जिला केंद्रीय जेल में महादेव सट्टा एप और हत्‍या के आरोपितों को मिल रहा VIP ट्रीटमेंट, जांच में बैरक से मिले मोबाइल, सिम और ड्राई फ्रूट्स, एसपी और कलेक्टर हुए हैरान

कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी ऋचा प्रकाश चौधरी और पुलिस अधीक्षक जितेंद्र शुक्ला ने लोकसभा चुनाव के मद्देनजर आज जिला केंद्रीय जेल दुर्ग का तड़के सुबह निरीक्षण किया। इस दौरान अधिकारियों के दल द्वारा जेल के सभी बैरक की जांच पड़ताल की गई। तलाशी के दौरान प्रतिबंधित सामग्री मोबाइल, सिम, उस्तरा, ब्लेड, चाकू, जैसे हस्तनिर्मित औजार, इस्तेमाल किया हुआ चिलम, बीड़ी, सिगरेट, अनावश्यक खाने की वस्तु आदि बरामद किया गया है।

बुधवार सुबह पुलिस प्रशासन का अमला केंद्रीय जेल का निरीक्षण करने पहुंचा। निरीक्षण के दौरान कैदियों के बैरक से एक मोबाइल फोन, सिम, उस्तरा, ब्‍लेड और चाकू जैसा हस्तनिर्मित औजार तथा इस्तेमाल किया चिलम, बीड़ी, सिगरेट, अनावश्यक खाने के सामान को बरामद किया गया। निरीक्षण के दौरान जेल के भीतर अव्यवस्थाओं को लेकर एसपी ने जेल अधीक्षक को फटकार भी लगाई। साथ ही जेल के सभी अधिकारी और कर्मचारियों को सजग होकर ड्यूटी करने और किसी भी प्रकार की लापरवाही न करने की हिदायत दी गई।

आरोपितों को वीआइपी ट्रीटमेंट
जानकारी के मुताबिक केंद्रीय जेल दु्र्ग में निरुद्ध कुछ बंदियों को जेल के भीतर वीआइपी ट्रीटमेंट उपलब्ध कराया जा रहा है। जिसमें महादेव सट्टा एप और हत्या के आरोपित दीपक नेपाली, तपन सरकार सहित कुछ और लोग शामिल हैं। अधिकारियों के आकस्मिक निरीक्षण में इन आरोपितों के पास काजू, बादाम और किशमिश जैसे ड्राई फ्रूट्स मिले हैं। आरोपित ने इन्हें गद्दा के नीचे छुपाकर रखे थे।

कलेक्टर एवं जिला दंडाधिकारी चौधरी और पुलिस अधीक्षक शुक्ला द्वारा जेल अधीक्षक सहित जेल के अधिकारियों व कर्मचारियों को हमेशा सजग होकर ड्यूटी करने और किसी भी प्रकार की लापरवाही न बरतने की सख्त हिदायत दी गई। जेल निरीक्षण के दौरान अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक अभिषेक झा, एसडीएम मुकेश रावटे, सीएसपी चिराग जैन, डिप्टी कलेक्टर उत्तम ध्रुव, तहसीलदार प्रफुल्ल कुमार गुप्ता, गुरुदत्त पंचभाये, डीएसपी, थाना प्रभारी सहित बड़ी संख्या में पुलिस के जवान मौजूद थे।