दुर्ग केंद्रीय जेल से सट्टा चला रहे थे आरोपी? गैंगस्टर तपन सरकार, महादेव एप के दीपक नेपाली ट्रेन हाईजेक के मास्टरमाइंड एक ही बैरक में मिले,जेल अधीक्षक को लगाई फटकार

दुर्ग जिला प्रशासन और पुलिस की संयुक्त टीम ने बुधवार की सुबह तड़के दुर्ग केंद्रीय जेल में औचक छापेमारी की। टीम ने सुबह 5 से 7 बजे तक करीब 2 घंटे तक जेल में छानबीन की। इस दौरान कैदियों के बैरक से एक मोबाइल फोन, सिम, उस्तरा, ब्लेड और चाकू जैसा हाथ से बनाए गए औजार तथा इस्तेमाल किया चिलम, बीड़ी, सिगरेट एवं बाहर का खाने के सामान को बरामद किया गया। एकाएक छापेमारी को एसपी जितेंद्र शुक्ला ने आगामी लोकसभा चुनाव के तहत रुटीन कार्रवाई बताया है। हालांकि खबर यह भी है कि जेल से ऑनलाइन सट्‌टा और मोबाइल संचालित करने की जानकारी मिली थी, जिसके बाद छापामार कार्रवाई की गई।

एएसपी अभिषेक झा ने बताया कि कार्रवाई के दौरान कलेक्टर ऋचा प्रकाश चौधरी और पुलिस अधीक्षक जितेंद्र शुक्ला भी मौजूद थे। जेल में निरीक्षण के लिए 15 टीमें गठित की गई थी, जिन्होंने 63 बैरकों को खंगाला। इस दौरान पुलिस अधिकारियों को हत्या के मामले में जेल दाखिल किए गैंगस्टर तपन सरकार, महादेव एप के मेन ऑपरेटर सौरभ चंद्राकर और रवि उप्पल के करीब दीपक नेपाली समेत ट्रेन हाईजेक में शामिल उपेंद्र सिंह उर्फ कबरा एक ही बैरक में मिले। निरीक्षण के दौरान जेल के भीतर अव्यवस्थाओं को लेकर एसपी ने जेल अधीक्षक को फटकारा भी।

साथ ही जेल के सभी अधिकारी और कर्मचारियों को सजग होकर ड्यूटी करने और किसी भी प्रकार की लापरवाही न करने की हिदायत दी गई। एसपी जितेंद्र शुक्ला ने बताया कि जेल से मिले मोबाइल की गहनता से जांच की जा रही है। आगे जो भी तथ्य सामने आएंगे, उसकी रिपोर्ट तैयार करके कार्रवाई के लिए कलेक्टर को प्रेषित की जाएगी।