सलमान खान के घर फायरिंग मामले में हुए कई बड़े खुलासे…,फायरिंग करने वालों ने खोले राज।

बॉलीवुड एक्टर सलमान खान के गैलेक्सी अपार्टमेंट पर गोलीबारी करने वाले विकी गुप्ता और सागर पाल को गुजरात के भुज से 95 किलोमीटर दूर से गिरफ्तार कर लिया गया। दोनों ने पुलिस की पूछताछ में कई अहम खुलासे किए हैं। आरोपियों ने बताया है कि गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के भाई अनमोल ने दोनों को काम पर रखा था। दोनों ने यह भी बताया कि वे सलमान खान को 1998 में जोधपुर में किए गए काले हिरण के शिकार मामले में सजा देना चाहते थे। सलमान खान को डराने के लिए दोनों को एक लाख रुपये मिले थे और बाकी के तीन लाख रुपये काम पूरा होने के बाद मिलने थे।

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार अब मुंबई पुलिस लॉरेंस बिश्नोई की पुलिस हिरासत की मांग कर सकती है। इस के लिए पुलिस जल्द ही अदालत का रुख कर सकती है। वहीं, लॉरेंस के भाई अनमोल के खिलाफ लुक आउट सर्कुलर भी जारी हो सकता है। अनमोल कनाडा में रहता है और सलमान खान के घर पर फायरिंग के मामले में सोशल मीडिया के जरिए से कथित तौर पर जिम्मेदारी भी ली है। ज्वाइंट पुलिस कमिश्नर (क्राइम) लखमी गौतम ने कहा, ”विकी 10वीं पास है, जबकि सागर ने आठवीं तक की पढ़ाई की है। अब पुलिस यह जांच कर रही है कि दोनों के खिलाफ पूर्व में भी कोई मामले दर्ज थे या नहीं।” वहीं, पुलिस ने बताया है कि पूछताछ के दौरान पता चला है कि अनमोल ने दोनों से कहा था कि अगर दोनों सलमान खान के घर गोलियां चलाने में सफल हो जाते हैं तो वे न सिर्फ मशहूर हो जाएंगे, बल्कि उचित इनाम भी दिया जाएगा।

जांच में पता चला है कि दोनों आरोपियों ने गोली चलाने से पहले घटना की तीन से चार बार रेकी की थी। दोनों को बांद्रा के ताज लैंड एंड के पास देखा भी गया था। पुलिस के सूत्रों ने बताया कि अनमोल दोनों आरोपियों से बातचीत कर रहा था। दोनों से सलमान खान के घर पर गोलियों की कम से कम दो मैग्जीन खाली करने के लिए कहा गया था। एक मैग्जीन में पांच बुलेट्स होते हैं। दोनों का उद्देश्य सिर्फ डराना था, नाकि किसी को नुकसान पहुंचाना। दोनों आरोपी पूरी रात बैंडस्टैंड इलाके में घूमते रहे और फिर सुबह 4.51 पर सलमान खान के गैलेक्सी अपार्टमेंट की ओर पहुंचे और बाइक से ही गोलियां चलाईं। आरोपियों का दावा है कि दोनों 28 फरवरी से ही मुंबई में थे और इस दौरान सलमान खान के पनवेल स्थित फार्महाउस और गैलेक्सी अपार्टमेंट की रेकी की। दोनों ने पनवेल इलाके में किराए पर कमरा भी लिया था और उसी में ठहरे थे।

सलमान खान के घर पर फायरिंग करने वाले दोनों आरोपियों तक पहुंचने में पुलिस की सबसे ज्यादा मदद सीसीटीवी फुटेज ने की। जिस बाइक पर दोनों सवार थे, उसके जरिए पुलिस बाइक बेचने वाले के पास पहुंची। उसने ही पुलिस को दोनों के फोन नंबर और पनवेल के कमरे का एड्रेस भी दे दिया। इसके बाद मकान मालिक ने आधार कार्ड और फोन नंबर पुलिस को दिया। इस बीच, मोबाइल फोन को जब ट्रैक किया गया तो उसने भुज का पता लगाने में पुलिस की मदद की। ऐसे पुलिस ने गुजरात के भुज से कुछ किलोमीटर की दूरी पर दोनों आरोपियों को गिरफ्तार भी कर लिया। अब पुलिस अपनी जांच में यह पता लगाने की कोशिश कर रही है कि अनमोल के कहने पर किसने दोनों आरोपियों को हथियार और कैश पहुंचाए

जिले में दोनों के खिलाफ कोई आपराधिक इतिहास नहीं
हालांकि, कुछ लोगों ने आशंका जताई कि हो सकता है पैसे के लालच में रास्ते से भटक गए हों। गांव के जिस अमेरिका महतो से पुलिस ने पूछताछ की, उनका बेटा आशीष गोरखपुर में काम करने गया है। पुलिस का कहना है कि गिरफ्तार दोनों यवकों का जिले में कोई आपराधिक इतिहास नहीं है।