भिलाई के लिए गर्व का क्षण: रुंगटा पब्लिक स्कूल भिलाई की छात्रा निर्वाणा अग्रवाल का साहित्य की दुनिया मे बड़ी उपलब्धि…, पूरे भारत मे टॉप 10 में हासिल किया स्थान

संजय रूंगटा ग्रुप ऑफ इंस्टीट्यूशंस के तत्वावधान में चलने वाले रूंगटा पब्लिक स्कूल, भिलाई के लिए यह बहुत गर्व का क्षण रहा है जब स्कूल की छात्रा, निर्वाणा अग्रवाल, जो कैम्ब्रिज के स्टेज VIII की छात्रा हैं, उन्होंने साहित्य की दुनिया में एक बहुत बड़ी उपलब्धि प्राप्त की है। दुनिया का सबसे बड़ा पुस्तक लेखन उत्सव छात्रों के लिए एजुकेशन वर्ल्ड के सहयोग से ब्री बुक्स द्वारा आयोजित किया गया था, जहाँ रुंगटा पब्लिक स्कूल की छात्रा निर्वाणा अग्रवाल ने हिस्सा लिया । इसके माध्यम से दुनिया के प्रतिभाशाली प्रतिभागी किताबें लिखने, प्रकाशित करने और उनका प्रचार करना सीखते हैं। प्रतिभागियों ने विश्व स्तर पर प्रकाशित लेखक बनने के लिए एआई-सक्षम लेखन मंच पर अपनी किताबें लिखीं। पूरे भारत के स्कूलों का प्रतिनिधित्व करते हुए, रूंगटा पब्लिक स्कूल की छात्रा ने एक मनोरम यात्रा शुरू की, जिसमें उन्होंने अपनी बुद्धि और कौशल के बल पर रचनात्मकता और कल्पना द्वारा एक पुस्तक लिखी।

निर्वाणा अग्रवाल ने पूरे भारत में प्रथम 10 में स्थान हासिल किया है। उनकी असाधारण पुस्तक, द ए 2 ज़ेड ऑफ़ ऑक्सफ़ोर्ड ने एक युवा लेखक के रूप में उनकी प्रतिभा और समर्पण को प्रदर्शित करते हुए, प्रतिष्ठित राष्ट्रीय बेस्ट सेलर पुरस्कार जीता है। उनकी किताब अमेज़न के साथ-साथ क्रॉसवर्ड स्टोर्स पर भी उपलब्ध है। उन्होंने एनडीटीवी में एक इंटरव्यू भी दिया है। उन्हें एक सैमसंग टैबलेट और बेस्टसेलर पुरस्कार ट्रॉफी भी मिली। उनकी किताब को डिज़्नी इंटरनेशनल
एचडी, ब्रुकलिन बुक फेस्टिवल में भी प्रदर्शित किया जा रहा है और टाइम्स ऑफ इंडिया – एनआईई
में भी मान्यता मिल रही है।

विद्यालय की, उप प्रधानाचार्य दीप्ति सिंह ने निर्वाणा अग्रवाल को शुभकामनाएँ देते हुए कहा कि
बच्चे देश का भविष्य होते हैं और इस तरह हर, इतनी कम उम्र में उपलब्धि को प्राप्त करना स्कूल के साथ-साथ परिवार और पूरे देश के लिए बहुत ज्यादा गर्व का विषय है।

स्कूल के प्रिंसिपल श्री राजीव कुमार ने निर्वाणा अग्रवाल को उनकी अनुकरणीय उपलब्धि पर
बधाई दी और पूरे स्कूल की ओर से उनके उज्ज्वल भविष्य के लिए शुभकामनाएँ दी। उन्होंने कहा
कि अधिक से अधिक छात्रों को लेखन और सामग्री निर्माण के मार्ग पर प्रोत्साहित किया जाना
चाहिए। उन्हें निर्वाणा से प्रेरणा लेनी चाहिए और अपनी साहित्यिक प्रतिभा को पहचानने की दिशा में काम करना चाहिए।

एसआरजीआई के अध्यक्ष श्री संजय रूंगटा ने युवा लेखिका निर्वाणा को बधाई दी और कहा कि उन्हें बेहद खुशी है कि वह इतनी कम उम्र में इतने बड़े मंचों पर अपनी रचनात्मक प्रतिभा तलाश रही है। इसके अलावा, उन्होंने कहा कि उनकी किताब की एक प्रति सभी के पढ़ने के लिए लाइब्रेरी में रखी जाएगी।