भिलाई में संयुक्त यूनियनों ने इंडिया गठबंधन के समर्थन में खुर्सीपार गेट में बाटा पर्चा

संयुक्त यूनियनों ने इंडिया गठबंधन के समर्थन में खुर्सीपार गेट में बाटा पर्चा

इंडिया गठबंधन के प्रत्याशी राजेंद्र साहू के पक्ष में तेजी से अभियान चल रहा है जिसके तहत आज भिलाई इस्पात संयंत्र एवं औद्योगिक क्षेत्र के संयुक्त यूनियनों ने खुर्सीपार गेट में पर्चा बाट कर कर्मियों से राजेंद्र साहू को पंजा छाप पर वोट देने की अपील किया

बीते 10 सालों में ठेका श्रमिकों की हालत हुई है बद से बदतर

पिछले 10 सालों में एक तरफ जहां ठेका श्रमिकों के वेतन में केंद्र सरकार अथवा उनके नुमाइंदों के पहल से कोई इजाफा नहीं हुआ है वही दूसरी तरफ उतने ही वेतन में बढ़ती महंगाई को झेलने के लिए ठेका मजदूर मजबूर है जबकि इन्हीं ठेका मजदूरों के वोट से पिछले चुनाव में मौजूदा सांसद रिकार्ड मतों से विजय हुए थे इस संसदीय क्षेत्र में लगातार ठेकेदार मजदूरों का शोषण जारी हैं ज्ञात हो भिलाई इस्पात संयंत्र के आसपास के गांव से लोग यहां मजदूरी करने आते हैं इसके पहले इन्हीं के गांवो में भिलाई इस्पात संयंत्र बनाया गया पहली पीढ़ी को नौकरी मिली दूसरी पीढ़ी को ठेका मजदूरी में काम मिला और आज तीसरी पीढ़ी को भिलाई इस्पात संयंत्र में ठेका मजदूरी भी नहीं मिल रही है क्योंकि केंद्र सरकार की नीतियों के चलते स्थाई नियुक्तियां पूर्ण रूप से बंद है वहीं दूसरी तरफ बाहरी बड़ी कंपनियां संयंत्र में आ गई है और आज वे प्रिंसिपल एंपलॉयर है साथ ही साथ बाहरी मजदूरों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है और यहां के स्थानीय बेरोजगारों को काम तक नहीं मिल रहा है। और यह सब मौजूदा दुर्ग संसदीय क्षेत्र के सांसद के क्षेत्र में हो रहा है जिस पर वे मौन रहे हैं

भिलाई के ठेका श्रमिकों का जारी है शोषण

ठेका श्रमिकों का लगातार शोषण जारी रहा है उन्हें राज्य अथवा केंद्र सरकार के द्वारा निर्धारित वेतन कभी नहीं मिला किंतु उनके लिए दुर्ग जिले के संसद के द्वारा कोई आवाज नहीं उठाई गई ना ही कोई प्रयास नजर आया ऐसे में अभी भी मजदूरों की बात ना कर मोदी जी के नाम पर एवं अन्य दूसरे मुद्दों पर वोट मांग रहे हैं जिसका उनको कोई अधिकार नहीं है क्योंकि हमने 5 साल पहले दुर्ग जिले के समस्याओं के समाधान के लिए सांसद चुना था जिसमें कोई प्रगति नहीं हुई

अप्रेंटिसशिप का कानून उत्साह पैदा करेगा नौजवानो को

इंडिया गठबंधन के घटक दलों ने इस बात को जनता के बीच रखा है कि इंडिया गठबंधन का सरकार के गठन होने के साथी नौजवानों के लिए अप्रेंटिसशिप का कानून लाया जाएगा सभी ग्रेजुएट नौजवान को 1 साल के लिए अप्रेंटिसशिप कोर्स करवाया जाएगा जिसके दौरान यह सभी ग्रेजुएट नौजवान अलग-अलग क्षेत्र में ट्रेनिंग लेते हुए काम करेंगे जिसके एवज में उन्हें साल का ₹1 लाख अर्थात हर महीने ₹8500 दिया जाएगा इंडिया गठबंधन कि यह गारंटी नौजवानों के बीच उत्साह पैदा कर रहा है इसीलिए नौजवान इस बार इंडिया गठबंधन को सत्ता मे लाने का मन बना लिए है जिसका नतीजा 4 जून के रूप में सामने आएगा।