महादेव सट्टा ऐप मामले में कई लोगों के खिलाफ गिरफ्तारी वारंट जारी: ED की पूरक परिवाद, आरोपियों की लिस्‍ट में कांग्रेस के बड़े नेताओं के नाम, अब हैं ये प्‍लान।

ईडी को मिले पर्याप्‍त सबूत, कई नेताओं के नाम,ईडी पूरक परिवाद में कांग्रेस नेताओं के नाम,ईओडब्‍ल्‍यू और छत्‍तीसगढ़ पुलिस ने जांच की तेज

छत्‍तीसगढ़ का सबसे बड़ा चर्चित महादेव सट्टा एप केस में ईडी शीघ्र ही पूरक परिवाद पेश करने वाली है।

इस चार्ज शीट में कांग्रेस के कई बड़े नेताओं और उनके रिश्‍तेदारों, परिजनों के नाम शामिल हैं, जिन्‍हें आरोपी बनाने की तैयारी प्रवर्तन निदेशालय ने की है।

बताया जा रहा है कि इनके खिलाफ पड़ताल में ईडी (Mahadev Satta App Case) को पर्याप्त सबूत और गवाह मिले हैं। इसलिए उनका नाम परिवाद में शामिल करने की तैयारी की जा रही है।

इसके अलावा इसमें पिछली सरकार के कुछ प्रभावशाली लोगों को भी आरोपी बनाने की तैयारी है।

बता दें कि महादेव सट्टा केस (Mahadev Satta App Case) में ईडी छत्‍तीसगढ़ के कुछ अधिकारियों और व्‍यापारियों के घर छापामार कार्रवाई कर सकती है। ईडी को पड़ताल के दौरान नया सुराग मिले हैं।

अब तक ईडी महादेव सट्टा केस में 18 लोगों को अरेस्‍ट कर चुकी है। 13 से अधिक लोगों को आरोपी बनाया है। इन आरोपियों की कोर्ट के माध्यम से गिरफ्तारी की जाएगी। कोर्ट ने कुछ लोगों को गिरफ्तारी वारंट भी जारी कर दिया है।

महादेव सट्टा ऐप केस की जांच तेज

ईडी के बाद ईओडब्ल्यू ने भी महादेव सट्टा केस की पड़ताल तेज कर दी है। ईओडब्ल्यू ने दिल्ली और गोवा से राहुल वटके और रितेश यादव को अरेस्‍ट किया है। जेल में बंद एएसआई चंद्रभूषण वर्मा, व्‍यापारी सुनील दम्मानी और सतीश चंद्राकार की भी गिरफ्तारी की गई है। आरोपियों को आमने-सामने बिठाकर पूछताछ की जा रही है। रितेश ने चंद्रभूषण पर आरोप लगाया है कि वह उन्हीं के लिए काम करता है।

उनके कहने पर पैसों का कलेक्शन करता और उनके बताई जगह पर पहुंचाता था। राहुल हवाला का काम करता था। राहुल और रितेश ने चंद्रभूषण और सतीश पर आरोप लगाया है कि दोनों ही पैसों के लेनदेन को संभालते थे।

यही लोग पुलिस-प्रशासन के अधिकारियों के पास रुपए भेजते थे। सतीश कई पुलिस वालों के साथ आता-जाता था। दोनों मिलकर ट्रांसफर-नियुक्ति भी कराते थे। दोनों का प्रमोटर सौरभ, रवि और शुभम से सीधा कनेक्शन के सबूत मिले हैं।

ईओडब्‍ल्‍यू कर रही लगातार पूछताछ
इधर ईओडब्ल्यू सट्टे (Mahadev Satta App Case) का पैनल चलाने वालों से लगातार पूछताछ जारी है। इस केस में रायपुर के एक चर्चित क्लब के संचालक को भी बुलाया गया है, जिससे पूछताछ की जा रही है। सबसे अधिक दुर्ग-भिलाई के लोगों से पूछताछ की जा रही है। रायपुर, बिलासपुर, रायगढ़ औ सक्ती जिले के बड़े सटोरी और पैनल ऑपरेटर को बुलाया है।

दुबई जाने वालों की सूची की जा रही तैयार

महादेव सट्टा ऐप केस (Mahadev Satta App Case) में प्रमोटर सौरभ चंद्राकर के शादी समारोह से लेकर उसकी हर साल होने वाली पार्टी के भी रिकॉर्ड खंगाले जा रहे हैं।

जिसमें उसकी पार्टी में विदेश जाने वालों की सूची तैयार की जा रही है। जिन लोगों से ईडी ने पूछताछ की है। बताया जा रहा है कि इनमें कई लोग ऐसे भी हैं, जिन्‍हें ईडी ने जांच के दायरे में शामिल नहीं किया है।

ऐसे लोगों के संपर्क और कनेक्‍शन की जानकारी एकत्रित की जा रही है। इसमें कई बड़े कारोबारी, स्कूल-कॉलेज संचालक से लेकर अधिकारी-कर्मचारियों के नाम भी शामिल बताए जा रहे हैं।

एक सप्‍ताह में 21 की गिरफ्तारी
इधर रायपुर पुलिस ने भी महादेव सट्टा केस (Mahadev Satta App Case) की जांच में तेजी लाई है। पुलिस ने एक सप्‍ताह में 21 से अधिक लोगों को अरेस्‍ट किया है।

इसमें पुलिस को बड़ा क्लू मिला है, जिसके आधार पर जांच की जा रही है। इसी मामले में टेलीकॉम कंपनी और बैंक के अधिकारियों की भूमिका की भी पड़ताल की जा रही है।