भिलाई के कॉफी हाउस में रची गई थी मौत की साजिश: कांग्रेस नेता विक्रम बैस हत्याकांड,गंडासे से हमला कर मारी गई थी गोली,6 आरोपी गिरफ्तार,सामने आई बड़ी वजह…

कांग्रेस नेता विक्रम बैस की हत्या का खुलासा करते हुए पुलिस ने छह आरोपियों को गिरफ्तार किया है। वहीं, हत्या का मुख्य आरोपी अभी फरार है। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से पिस्टल, गंडासा, दोपहिया वाहन और आरोपियों के मोबाइल को जब्त किया है।

नारायणपुर में कांग्रेस नेता विक्रम बैस हत्याकांड का नारायणपुर पुलिस ने गुरुवार को खुलासा किया है। हत्या की घटना में शामिल छह आरोपियों को पुलिस ने अलग-अलग जगह से गिरफ्तार किया है। आरोपियों ने नारायणपुर निवासी विक्रम बैस की रंजिश के चलते हत्या की थी। घटना में इस्तेमाल पिस्टल, गंडासा, दोपहिया वाहन और आरोपियों के मोबाइल को जब्त किया गया है। हत्या की साजिश रचने वाला मुख्य आरोपी मनीष राठौर फरार है।

नारायणपुर पुलिस अधीक्षक प्रभात कुमार ने बताया कि 13 मई की रात में अज्ञात व्यक्तियों ने कांग्रेस नेता विक्रम बैस की गोली मारकर हत्या कर दी थी। आरोपियों को पकड़ने के लिए साइबर टीम और पुलिस की अलग-अलग टीम का गठन किया गया था। सीसीटीवी फुटेज व साइबर एनालिसिस के आधार पर मनीष राठौर निवासी नारायणपुर का नाम सामने आया। मनीष राठौर, जसप्रीत सिंह सिद्द्धू, विश्वजीत नाग, विप्लव और विवेक अधिकारी ने लगभग डेढ़ महीने पहले हत्या की साजिश रची थी।

मनीष राठौर ने भिलाई के इंडियन कॉफी हाउस में पिस्टल खरीदने और हत्या की प्लानिंग करने के लिए विश्वजीत नाग, राजीव रंजन यति उर्फ राजू उर्फ बिहारी, संदीप यादव उर्फ संजू और सैमुआल उर्फ रायनुन्तलम के साथ मीटिंग की। हत्या में उपयोग हुआ पिस्टल जिला सिवान बिहार से लाया गया था। घटना को अंजाम देने से पहले दो दिनों तक आरोपियों ने विक्रम बैस की रेकी की थी। घटना के दिन विक्रम बैस को अकेला पाकर आरोपी संजू यादव और विश्वजीत नाग ने मिलकर गंडासा से वार कर और पिस्टल से गोली मारकर उसकी हत्या कर दी। घटना में प्रयुक्त पिस्टल को मनीष राठौर के गोदाम में छुपा दिया गया था।