अब भी चल रहा महादेव ऐप: पुलिस ने सात सट्टेबाजों को पकड़ा, आरोपियों ने 100 करोड़ का किया लेनदेन, 84 खाते फ्रीज

कोरबा पुलिस ने सात अंतर्राज्यीय सट्टेबाजों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपी महादेव M-100, M-151 पैनल से आईपीएल में सट्टा लगाते थे। सटोरियों के विभिन्न बैंक खातों मे लगभग 100 करोड़ से अधिक का लेनदेन पाया गया।

कोरबा पुलिस ने गोवा से सात और कोरबा से एक अंतर्राज्यीय सट्टेबाजों को गिरफ्तार किया है। पकड़े गए आरोपी महादेव M-100, M-151 पैनल से आईपीएल में सट्टा लगाते थे। पकड़े गए आरोपी छत्तीसगढ, महाराष्ट्र और हरियाणा के रहने वाले हैं। आरोपी गोवा में बैठकर महादेव पैनल के जरिए सटट्टा चलाते थे। पुलिस ने आरोपियों के कब्जे से 13 लैपटॉप, 48 स्मार्ट फोन, 26 पासबुक, 14 चेकबुक और 40 एटीएम बरामद किए हैं। जब्त किए गए मशरूका की कुल कीमत लगभग दो करोड़ 50 लाख बतायी जा रही है।

कोरबा एसपी सिद्धार्थ तिवारी ने बताया कि गिरफ्तार आरोपियों से पैनल संचालन के लिए उपयोग किये जाने वाले कुल 135 बैंक खातों की जानकारी मिली है। इसमें मनी ट्रेल का विश्लेषण किया जा रहा है। सटोरियों के खिलाफ थाना कोतवाली में मामला दर्ज किया गया है। बैंक खातों में जमा राशियों को होल्ड/फ्रीज कराने के लिए कार्रवाई की जा रही है। सटोरियों के विभिन्न बैंक खातों मे लगभग 100 करोड़ से अधिक का लेनदेन पाया गया। पुलिस ने अलग-अलग बैंकों के 84 खातों को फ्रीज कराया है, जिसमें 30 लाख रुपये को होल्ड कराया गया है।

कोतवाली पुलिस की संयुक्त टीम द्वारा सूचना मिली कि डीडीएम स्कूल के पास सार्वजनिक स्थान पर प्रतीक विधवानी लोगों से ऑनलाइन आईपीएल में सट्टे का दावा लगाने के लिए लोगों से पैसा लेकर उनके दाव लगवा रहा है। पुलिस टीम के द्वारा उक्त स्थान पर पहुंचकर घेराबंदी कर आरोपी प्रतीक विधवानी पिता दयालचंद विधवानी उम्र 36 वर्ष साकिन डीडीएम रोड कोरबा थाना कोतवाली कोरबा को पकड़ा गया उसके कब्जे से मोबाइल फोन मिला। आरोपी द्वारा अवैध रूप से मोबाइल फोन के माध्यम से ऑनलाइन आईपीएल में सट्टा खेलने एवं खिलाना मिला।

उसके मोबाइल में कई बैंकों के खाते एवं उसके मोबाइल के व्हाट्सएप में ग्रुप बनाकर कई लोगों से पैसे का लेनदेन करते मिला। आरोपी से इस संबंध में पूछा गया तो उसने अपना जुर्म स्वीकार करते हुए आईपीएल मैच में सट्टा खिलवाना स्वीकार किया। साइबर सेल टीम के द्वारा आरोपी प्रतीक विधवानी के व्हाट्सएप एवं उसके बैंक खातों का बारीकी से अध्ययन किया गया जिस पर आरोपी के द्वारा कई अलग-अलग बैंक खातों में लगभग 17,00,000 करोड रुपए का ट्रांजैक्शन मिला। गिरफ्तार सटोरियों से पूछताछ एवं ऑर्गनाईजेशनल इनपुट में पाया गया कि उनके अन्य साथी गोवा में बैठकर महादेव एप पैनल के माध्यम से सट्टा संचालित कर रहे हैं।

जिस पर वरिष्ठ अधिकारियों के निर्देशन में नगर पुलिस अधीक्षक दर्री रविंद्र कुमार मीना के नेतृत्व में टीम का बनाकर गोवा रवाना किया गया। टीम के सदस्यों द्वारा गोवा पहुंच कर सटोरियों की पतासाजी करते हुए सटोरियों को लोकेट किया गया जो कि गोवा के जयराम नगर उनिया सण्डेंस बिल्डिंग के पास एक अपार्टमेंट के फ्लैट नंबर C 406 में रहकर सट्टा खिला रहे थे। जिस पर टीम के सदस्यों द्वारा उसी अपार्टमेंट की रेकी कर रहे थे तथा प्रत्येक व्यक्ति के बारे में जानकारी प्राप्त कर रहे थे। पूरे लोगों की उपस्थिति होते ही फ्लैट में रेड कार्यवाही किया गया। रेड कार्यवाही के दौरान फ्लैट में कुल चार व्यक्ति उपस्थित थे, जो लैपटॉप एवं मोबाइल फोन से सेटअप तैयार कर ऑनलाईन सट्टा संचालित कर रहे थे।