कंगना को थप्पड़ मारने वाली CISF महिला कांस्टेबल कौन?,CISF कांस्टेबल के खिलाफ नहीं हुई FIR, पुलिस ने दिया यह जवाब,जानें उसके बारे में

अब तक मामले की जांच ही जा रही है कोई भी एफआईआर दर्ज नहीं की गई है। इस वजह से कुलविंदर कौर को अब तक गिरफ्तार नहीं किया गया है।

कंगना रनौत को थप्पड़ मारने वाली सीआईएसएफ की कांस्टेबल कुलविंदर कौर के खिलाफ अब तक एफआईआर दर्ज नहीं की गई है। स्थानीय पुलिस को सीआईएसएफ के द्वारा घटना की पूरी जानकारी दे दी गई है और पुलिस का कहना है कि सीसीटीवी फुटेज को खंगाला जा रहा है। लेकिन अब तक मामले की जांच ही जा रही है कोई भी एफआईआर दर्ज नहीं की गई है। इस वजह से कुलविंदर कौर को अब तक गिरफ्तार नहीं किया गया है। सीआईएसएफ के द्वारा उन्हें सस्पेंड करके डिपार्टर्मेंटल इंक्वायरी शुरू कर दी गई है।

बॉलीवुड एक्ट्रेस और मंडी से भाजपा की सांसद कंगना रनौत को चंडीगढ़ एयरपोर्ट पर सीआईएसएफ की महिला गार्ड ने थप्पड़ मारा था। महिला कांस्टेबल का कहना था कि कंगना रनौत ने किसान आंदोलन पर बैठी महिलाओं को लेकर आपत्तिजनक टिप्पणी की थी। उस आंदोलन में उनकी मां भी बैठी थीं। इसी वजह से वह कंगना से नाराज हैं। कंगना ने कहा था कि लोग 100-100 रुपये लेकर किसान आंदोलन में बैठे हैं।

कंगना ने क्या कहा ?
इस मामले पर कंगना रनौत ने अपने इंस्टाग्राम पेज पर स्टेटस शेयर करते हुए सवाल किया कि आखिर कैसे उग्रवाद रुकेगा। वीडियो शेयर करते हुए कंगना ने कहा, “मुझे बहुत सारे फोन कॉल्स आ रहे हैं। मेरे शुभ चिंतकों और मीडिया के। मैं सुरक्षित हूं। चंडीगढ़ एयरपोर्ट पर आज जो हादसा हुआ वह सिक्योरिटी चेक के साथ हुआ। वहां सिक्योरिटी चेक कर जब मैं निकली तो दूसरे कमरे में सीआईएसएफ की जो सुरक्षाकर्मी थीं। उन्हें पास करने का प्रयास किया तो उन्होंने सामने से आकर मेरे चेहरे पर मारा। इसके बाद वो गालियां देने लगीं। जब उनसे पूछा कि उन्होंने ऐसा क्यों किया तो उन्होंने कहा कि वो किसान आंदोलन को सपोर्ट करती हैं। मैं सुरक्षित हूं, लेकिन मेरी चिंता ये है कि जो आतंकवाद और उग्रवाद पंजाब में बढ़ रहा है, उसे हम कैसे हैंडल करेंगे।”

35 वर्षीय कुलविंदर कौर CISF में साल 2009 में शामिल हुईं थीं और वह चंडीगढ़ एयरपोर्ट पर फोर्स के साथ साल 2021 से काम कर रहीं हैं। वह पंजाब के सुल्तानपुर लोधी की रहने वाली हैं। खास बात है कि उनके पति भी CISF में जवान हैं। दोनों एक ही एयरपोर्ट पर तैनात हैं और उनके दो बच्चे भी हैं। साथ ही उनके भाई शेर सिंह किसान नेता हैं और किसान मजदूर संघर्ष कमेटी के संगठन सचिव हैं।